ज्‍यादा चीनी खाने के नुकसान

आजकल दुनियाभर के लोग चीनी से पीछा छुड़ाने के लिए शुगरफ्री चीजों का सेवन करते है।ज्‍यादा चीनी का सेवन आपके लिए हानिकारक हो सकती है क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा अधिक होती है। ज्‍यादा चीनी से आपकी रक्त शर्करा और ट्राइग्लिसराइड्स जो कि रक्त में वसा का एक प्रकार है, बढ़ जाएंगे। चीनी गन्ने के रस से बनाई जाती है।लेकिन गन्ने के रस से लेकर चीनी बनाने की प्रक्रिया में इसके सभी नियुटर्स ख़त्म हो जाते है और साथ ही इसमें कई प्रकार के केमिकल्स का इस्तेमाल होता है। यह आपको मोटा बनाता है, आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाता है, इंसुलिन रेजिस्टेंस का कारण बनता है।जहां हम हमारे शरीर पर इसके नुकसान के बारे में जानते हैं वहीं हमें शायद ही पता है कि कैसे यह हमारे दिमाग को नुकसान पहुंचाता है।
क्या है चीनी?चीनी कार्बोहाइड्रेट है, जो कई तरह की होती है। सामान्य शुगर मोनोसैक्कैराइड जैसे ग्लूकोज, फ्रक्टोज व गैलेक्टोज है। डाईसैक्कैराइड जैसे सूक्रोज, माल्टोज व लैक्टोज की संरचना जटिल  है।

ज्‍यादा चीनी का सेवन करने से कई अन्‍य दुष्‍प्रभाव हैं:-

विटामिन की कमी

ज्य़ादा चीनी खाने से शरीर में विटमिन बी खासतौर पर विटमिन बी6 की कमी हो जाती है। विटमिन बी 6 सेरोटोनिन केमिकल प्रोड्यूस करता है, जो हमारे मूड को खुशनुमा रखता है। अगर उसकी मात्रा शरीर में कम हो जाए तो इससे घबराहट और डिप्रेशन की समस्या हो सकती है।

डायबिटीज़

चीनी से मोटापा आता है, जो मधुमेह व डायबिटीज़ कारण बनती है। मोटापे के कारण शरीर में कई प्रकार के मेटाबोलिक व हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनसे इंसुलिन का प्रतिरोध बढ़ जाता है और पेंक्रियाटिक सेल्स निष्फल होने लगते हैं। अंततया स्थिति ऐसी आ जाती है, जिससे रक्त-शर्करा को नियंत्रित करने के लिए, जितना इंसुलिन शरीर में चाहिए, उत्पादन उससे कम होने लगता है|

दांतों की समस्याएं

चीनी में कोई प्रोटीन, आवश्यक चर्बी, विटेमिंस या खनिज नहीं होते हैं, मात्र शुद्ध ऊर्जा होती है| जब लोग चीनी के रूप में 10-20% केलोरीज की खपत कर लेते हैं, तब वह एक बड़ी स्वास्थ्य समस्या बन जाती है और इस वजह से पोषण की कमी में योगदान मिलता है| दांतों के लिए चीनी बहुत खराब होती हैं, क्योंकि यह खराब बैक्टेरिया को आसानी से पचने वाली ऊर्जा मुंह में उपलब्ध कराती है|

एजिंग को बढ़ावा देती है

चीनी का सेवन करने से चीनी हमारे खून में घुलने लगती है और यह कुछ ऐसे प्रोटीन के साथ मिल जाती है जो हमारी त्वचा को एजिंग की तरफ ले जाते हैं। चीनी प्रोटीन को खराब करके कोलेजन और इलास्टिन को भी खराब कर देती है। जिसके कारण स्किन में ड्राइनेस और त्वचा पर झुरियां दिखाई देने लगती है।

चीनी के नुकसान को ध्यान में रखते हुए चीनी का सेवन कम से कम करना चाहिए। यदि आप अपने शरीर को फिट और हैल्थी रखना चाहते है तो चीनी का सेवन आपको कम कर देना चाहिए।