वजन घटाने से जुड़े सवालों के जवाब

आज के समय में हर कोई मोटापे से परेशान हैं। कोई इसे गंभीर लेता है तो कोई इसे अनदेखा कर देता है। लेकिन जरूरी नहीं है कि उस परेशानी को हम तब तक परेशानी न मानें जब तक वो रोग न बन जाए। कुछ लोग बढ़ते वजन को लेकर परेशान तो हैं लेकिन शारीरिक रूप से चुस्त नहीं हैं क्योंकि उन्हें  वजन घटाने यानी   वेट लॉस की सही जानकारी ही नहीं है । वजन घटाने के लिए हम कई तरह के यत्न करते हैं, अक्सर हमारे प्रयोग असफल हो जाते हैं तो मन में सवाल भी उठते हैं। वर्कआउट कब करें, जिम जाना बेहतर है या घर पर वर्कआउट करें, आहार में क्या लें और क्या न लें, आदि कई सवाल उठते हैं। इन सवालों के जवाब जानने के बाद वजन घटाने की आपकी गलतफहमी कुछ हद तक दूर भी होती है।

सवालकिस उम्र तक व्यक्ति का मेटाबॉलिज् कम हो जाता है ?

जवाब – मेटाबॉलिज्‍म ही हमारे शरीर से तेजी से कैलोरी बर्न करता है, अगर मेटाबॉलिज्‍म का स्तर कम है तो धीरे-धीरे कैलोरी जलेगी। 25 साल के बाद मेटाबॉलिज्‍म की कार्यविधि प्रत्येक साल लगभग 2.4 प्रतिशत तक कम होने लगती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है बुढ़ापे में आप अधिक मोटे हो जाएंगे, कई तरीके हैं जो आपके वजन को नियंत्रण में रखने में सहायक होंगे।

सवालवजन घटाने के लिए ज्यादा पानी पीना चाहिए ?

जवाब – वजन घटाने के लिए पानी काफी फायदेमंद होता है। लेकिन अति हर चीज बुरी होती है। अपने शरीर के वजन के 10 वे भाग को 2 से घटाने पर जो संख्या आती है उतने लीटर पानी पीना सही माना जाता है। जैसे कि मान लीजिए आपका वजन 70 किलो है तो उसका 10 वां भाग 7 होगा। अब उसमें से 2 घटाने पर 5 की संख्या आएगी। इसका मलतब है कि आपको रोजाना 5 लीटर पानी पीना चाहिए। सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पीने से फैट कम होता है।

सवालसुबह के वक्त खाने की भूख पर कैसे नियंत्रण करें ?

जवाब – सोकर उठने के बाद भूख लगना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, वैसे भी नाश्ता करना शरीर के लिए फायदेमंद माना जाता है। कोशिश करें कि नाश्ते में स्वस्थ आहार लें न कि बहुत अधिक और फैटी आहार खाएं। सुबह के वक्त अंडे खाएं, ब्राउन ब्रेड और दलिया भी खाना फायदेमंद माना जाता है इससे वजन भी नहीं बढ़ेगा।

सवालकीटोजेनिक डाइट  प्लान  क्या है ?

जवाब – कीटो डाइट कम कार्बोहाइड्रेट की डाइट के तौर पर जानी जाती है। इस डाइट की मदद से शरीर ऊर्जा के उत्पादन के लिए लिवर में कीटोन उत्पन्न करता है। इस डाइट प्लान को कीटोजेनिक डाइट, लो कार्ब डाइट, फैट डाइट जैसे नामों से भी जाना जाता है। साधारण तौर पर जब आप ज्यादा कार्बोहाइड्रेट का खाना खाते हैं। कीटो डाइट में फैट का सेवन ज़्यादा, प्रोटीन का मीडियम और कार्बोहाइड्रेट का कम सेवन किया जाता है। इस डाइट में लगभग 70 प्रतिशत फैट, 25 प्रतिशत प्रोटीन, और 5 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट होना चाहिए।

सवालक्या है फैट बर्नर और यह कैसे काम करता है?

जवाब जैसे की नाम से ही पता लग रहा है की यह सप्लीमेंट फैट कम करने से  संबंधित है ।इसका  इस्तेमाल करने से आपको मोटापा कम करने में मदद होगी ।इसका इस्तेमाल बॉडीबिल्डर भी करते है जिससे की वो अपने बॉडी से मोटापा कम करके अपनी मसल्स को अच्छी तरह से दिखा सके। फैट बर्नर हमारे फैट बर्न करने वाले सेल्स को एक्टिवेट करके उनको तेज  कर देता है। यह बॉडी के मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देता है जिसकी वजह से आपको फैट बर्न करने मे मदद मिलती है।

सवालरोजाना एक्सरसाइज के बाद भी वजन कम क्यों नहीं होता ?

जवाब – जरूरी नहीं है कि डाइटिंग और एक्सरसाइज से आपका वजन कम हो जाए। ऐसे कई कारण हैं जो वेट लॉस में बाधा पहुंचाते हैं जैसे के अगर आपको डिप्रेशन, डायबिटीज़ या माइग्रेन है तो इसकी दवाई लेने से भी आपका वजन कम नहीं हो रहा होगा या ज्यादा मेहनत करने की वजह से भूख बढ़ जाती है और ओवरईटिंग कर बैठते हैं।